blogid : 312 postid : 1105801

शर्मीले नवजोत सिंह सिद्धू ऐसे बनें बेबाक जट

Posted On: 7 Oct, 2015 sports mail में

Shakti Singh

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अपनी शायरी और जोरदार ठहाके से हर किसी के चेहरे पर मुस्कान लाने वाले नवजोत सिंह सिद्धू इन दिनों बीमार चल रहे हैं और दिल्ली के अपोलो अस्पताल में भर्ती हैं. डॉक्टरों के मुताबिक चोट लगने के कारण उनकी रक्त वाहिनियों में खून का थक्का जम गया है हालांकि अब उनकी सेहत में सुधार है. अपनी सेहत के बारे में माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर लिखते हुए सिद्धू क्रिकेटिंग अंदाज में कहते हैं “डाउन बट नॉट आउट”.


image11


भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व बल्लेबाज और भारतीय जनता पार्टी के पूर्व सांसद नवजोत सिंह सिद्धू भारतीय क्रिकेट के ऐसे खिलाड़ी हैं जो क्रिकेटिंग कॅरियर के बाद लगातर खुद को एक नए रूप में पेश करते रहे हैं.


sidhus01

एक खिलाड़ी का सपना होता है कि वह मैदान में अच्छा करे और जब रिटायर्ड हो तो उसे अपने ही फिल्ड में कोचिंग और कमेंट्री का मौका मिले. लेकिन बिंदास सिद्धू बतौर कमेंटेटर और विशेषज्ञ क्रिकेट में अपना योगदान तो देते ही हैं फिल्म और टेलीविजन में भी सक्रिय तौर जुड़े हुए हैं.


image02


सिद्धू भारतीय क्रिकेट जगत के एक मात्र ऐसे खिलाड़ी हैं जिनके चारो तरफ रंगीनियत ही दिखाई देती है. उनकी लाइफ को देखकर उन्हें जानने और समझने वाले कई बार उनसे ईर्ष्या करने लगते हैं.


Read: इस नेत्रहीन की फर्राटेदार क्रिकेट कमेंट्री हैरान कर देगी आपको



image07


हालांकि जिस तरह की लाइफ नवजोत सिंह सिद्धू जी रहे हैं, बचपन या जवानी के समय वह ऐसे नहीं थे. दरअसल स्कूल के दिनों में जब किसी इवेंट का आयोजन किया जाता था, सिद्धू तब स्कूल नहीं जाया करते थे. उन्हें डर होता था कि ऐसे इवेंट में उनके नाम की कोई घोषणा न कर दे. वह ऐसे इवेंट वगैरह में बोलने से बचते थे.


image03


Read: इस गेंदबाज को पिच पर स्टंप गिराने की बजाए बल्लेबाज का खून गिरते देखना ज्यादा पसंद था


इस तरह का डर उन्हें तब भी सता रहा था जब वह क्रिकेट की दुनिया में आए. इस बात पर स्वयं सिद्धू कहते हैं – “किसी दिन मैने यदि शतक मारा उस दिन मुझे खुशी तो होती थी लेकिन कहीं न कहीं डर भी लगता था, क्योंकि मीडिया की नजरों में मैं चढ़ जाता था.” उस दौरान सिद्धू लोगों से बातें करने में भी कतराते थे.


image06


उनकी लाइफ में बदलाव तब आया जब उन्होंने “दी वर्क ऑफ स्वामी विवेकानंद” नामक किताब पढ़ी. यही नहीं नवजोत सिंह सिद्धू भगवान शिव के सबसे बड़े भक्त हैं वह 1998 के बाद से रोजाना ध्यान के लिए समय निकालते हैं.


image08


वह गायत्री मंत्र और महामृत्युजंय मंत्र का जाप भी करते हैं. विवेकानंद की विचारों से प्रेरणा लेकर जिस तरह से नवजोत सिंह सिद्धू ने खुद में बदलाव लाया वह एक नए अवतार जैसा है…Next


Read more:

अगर इस भारतीय तेज गेंदबाज की सहायता न की जाती तो ये अफ्रीका के किसी देश में मजदूरी कर रहा होता

इस महाराजा के क्रिकेट के जुनून ने दिया पटियाला पैग को जन्म

कपिल शर्मा के शो में पीएम मोदी !




Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran