blogid : 312 postid : 1094658

नेशनल लेवल का ये हॉकी खिलाड़ी आज कुली बनकर उठा रहा है लोगों का सामान

Posted On: 15 Sep, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक जमाना था जब हॉकी ने भारत को विश्व पटल पर पहचान दिलाई. तब ओलंपिक में भारतीय हॉकी का एकक्षत्र राज हुआ करता था. भारतीय हॉकी को अंतरराष्ट्रीय स्तर तक पहुंचाने में ‘हॉकी के जादूगर’ मेजर ध्यानचंद का योगदान अविस्मरणीय है. लेकिन आज यही हॉकी खेल अपने खिलाड़ियों को एक सम्मानजनक जिन्दगी भी नहीं दे पा रहा है. अंबाला के नेशनल हॉकी खिलाड़ी ‘तारा सिंह’ की दुर्दशा ने आज खेल जगत को सोचने पर मजबूर कर दिया है. राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी तारा सिंह ने अपने कॅरियर में कई मैडल जीते. उन्होंने भारतीय हॉकी टीम में जगह बनाने के लिए काफी मेहनत भी की लेकिन खेल मंत्रालय और हॉकी अधिकारियों के उदासीन रवैये की वजह से आज यही खिलाड़ी रेलवे स्टेशन पर कुली बनकर लोगों का सामान उठा रहा है.



jagran 1


तारा सिंह ने डिस्ट्रिक्ट लेवल से लेकर नेशनल लेवल तक हॉकी खेला है. लेकिन वर्तमान में सरकारी सिस्टम में फंसकर उनका जीवन आर्थिक तंगी में गुजर रहा है. हालात इतने बद से बतर हो गए कि उन्हें सड़क पर आना पड़ा. तारा सिंह का कहना है कि “उन्हें सरकार की ओर से सरकारी नौकरी देने का आश्वासन मिला था. लेकिन कई साल गुजर गए नौकरी नहीं मिली.”


Read: ओलंपिक में एक मैडल पक्का, यह बच्चा अपने खेल से भारत को दिला सकता है एक पदक


सरकारी मदद न मिलने के बाद तारा सिंह ने अपने परिवार का पेट पालने के लिए अंबाला केंट रेलवे स्टेशन पर कुली का काम करना शुरू कर दिया. इसके बावजूद भी तारा सिंह का हॉकी प्रेम कम नहीं हुआ. तारा सिंह रोज अपने बच्चों को हॉकी सिखाने के लिए स्टेडियम ले जाते हैं और उन्हें हॉकी की बारीकियों से रूबरू कराते हैं.


jagran



तारा सिंह कहते हैं कि “किसी को विश्वास नहीं होता कि मैं हॉकी खिलाड़ी हूँ. जब लोगों को पता चलता है कि मैं नेशनल लेवल का हॉकी खेल चुका हूँ तो सब मुझ पर हंसते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि मैं झूठ बोल रहा हूँ.”


Read: भिड़ेंगे इंसान और रोबोट, होगा फुटबॉल विश्वकप का मुकाबला


तारा ने 1991 की नेशनल हॉकी प्रतियोगिता में हरियाणा के लिए खेलते हुए शानदार प्रदर्शन किया था. उन्होंने अपनी टीम के लिए कई जिताऊ मैच भी खेले. लेकिन आज ये हॉकी खिलाड़ी सरकारी मदद के अभाव में अपनी प्रतिभा को नष्ट होते हुए देख रहा है. तारा की आँखें किसी चमत्कार की बाट जोह रही है.Next…


Read more:

खली के बाद डब्ल्यूडब्ल्यूई रिंग तक पहुँचा ये भारतीय रेसलर

विश्व कप में खेल रहे एक क्रिकेट खिलाड़ी ने डाला भारत के इस गाँव को दुविधा में

इस अपराजित भारतीय पहलवान के डर से रिंग छोड़ भागा विश्व विजेता




Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran