blogid : 312 postid : 962297

भिड़ेंगे इंसान और रोबोट, होगा फुटबॉल विश्वकप का मुकाबला

Posted On: 30 Jul, 2015 Others में

Chandan Roy

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अभी हाल ही में फुटबॉल वर्ल्डकप समाप्त हुआ है. घबराइए नहीं यह बिलकुल सच्ची खबर है. एक ऐसा वर्ल्डकप जो पिछले 19 सालों से खेला जा रहा है. यदि आप इस नई तरह के फुटबॉल वर्ल्डकप से बेखबर हैं तो थोड़ा ठहर कर जरूर खबर लेले. फुटबॉल के प्रमियों के लिए यह अच्छी खबर है क्योंकि उन्हें हर साल फुटबॉल वर्ल्डकप देखने को मिल जाएगा. लेकिन इस फुटबॉल टूर्नामेंट में एक कमी खलती है, क्योंकि उनके पसंदीदा खिलाड़ी फुटबॉल के मैदान में नहीं दिखते हैं. और भला दिखें भी कैसे, क्योंकि इस वर्ल्डकप में इंसान नहीं, बल्कि दुनियाभर के रोबोट हिस्सा लेते हैं. जानिए फुटबॉल विश्वकप में रोबोट की हिस्सेदारी और उनकी अद्भुत दुनिया को…


3500



रोबोट का फुटबॉल विश्वकप को “रोबो कप” कहते हैं. “रोबो कप” का आयोजन प्रत्येक साल किया जाता है जिसमें दुनियाभर के देश अपने रोबोट के साथ हिस्सा लेते हैं. इस टूर्नामेंट को पहली बार 1997 में खेला गया था, तब से इस टूर्नामेंट का आयोजन लगातार किया जा रहा है. पहली बार रोबो कप की मेजबानी जापान में किया गया था जिसमें कुल 11 देशों के 38 टीमों ने हिस्सा लिया था.



robocup-2015


Read: राजनीति के मैदान में ‘खिलाड़ी’


साल 2015 ‘रोबो कप’ की मेजबानी चीन के हाथों में था और जीत का ताज जापान के सिर पर चढ़ा. पिछले 19 सालों का लम्बा तय करना ‘रोबो कप’ के लिए सरल नहीं था. चुकी, यह पूरा का पूरा खेल तकनीकों पर आधारित है इसलिए शुरुआत में कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता था. हालांकि पीछे 10 सालों में ‘रोबो कप’ टूर्नामेंट तकनीकी रूप से बेहरत हुआ है. साथ ही इस खेल के नियमों में बदलाव भी किए गए हैं.


tumblr_inline



Read: खली के बाद डब्ल्यूडब्ल्यूई रिंग तक पहुँचा ये भारतीय रेसलर



इस साल 2015 के ‘रोबो कप’ टूर्नामेंट के लिए मैदान को काफी मुलायम बनाया गया था. जिस कारण कई रोबोट को मैदान पर खड़े होने में दिक्कत आ रही थी. इस तरह के परिवर्तन और कई कठिन नियमों का उद्देश्य रोबोट तकनीक को उन्नत बनाना है.



robo-cup


इस टूर्नामेंट का भावी योजना 2050 तक एक ऐसा फुटबॉल मैच कराने की है जिसमें रोबोट का मुकाबला इंसानों से हो. इस पुरे टूर्नामेंट का मकसद रोबोट तकनीक के क्षेत्र में नई खोज और नए संभावनाओं को तलास करना है.Next…


Read more:

इस अपराजित भारतीय पहलवान के डर से रिंग छोड़ भागा विश्व विजेता

रिंग में लेडी होस्ट के साथ खली ने ये क्या कर दिया की मच गई खलबली

इस गेंदबाज को पिच पर स्टंप गिराने की बजाए बल्लेबाज का खून गिरते देखना ज्यादा पसंद था



Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran