blogid : 312 postid : 1139

क्रिकेट का भगवान – सचिन तेंदुलकर (Profile of Sachin Tendulkar)

Posted On: 15 Jul, 2011 sports mail में

  • SocialTwist Tell-a-Friend


खेल एक कला है और इस कला में शिल्पकारों की भूमिका बहुत अहम है. क्रिकेट में ऐसे कई महान खिलाड़ी हैं जिन्होंने इस खेल को सफलता की बुलंदी पर पहुंचाया है. पर असल मायनों में क्रिकेट का एक ऐसा खिलाड़ी भी है जिसे अगर क्रिकेट का देवता कहा जाए तो कोई दो राय नहीं. सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) विश्व क्रिकेट का वह चेहरा है जिसे पिछले बीस सालों से करोड़ों खेल-प्रेमी अपनी आंखों का तारा बनाए हुए हैं. बल्लेबाजी का शायद ही कोई ऐसा रिकॉर्ड हो जो इस महानायक की पहुंच से दूर हो.

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) का नाम भारत में इस कदर लोकप्रिय है कि एक समय लोग सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को ही क्रिकेट का दूसरा नाम मानते थे. इस अकेले खिलाड़ी के पास इतने रन हैं जितना इस समय पूरी एक टीम के पास भी नहीं है.


Sachin TendulkarSachin Tendulkar’s Profile : सचिन का जीवन परिचय

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) का जन्म 24 अप्रैल, 1973 को मुंबई में हुआ था. बचपन से ही हाथों में बल्ला लिए सचिन पहुंच जाते थे गेंदबाजों के छक्के छुड़ाने. सचिन का नाम उनके पिता रमेश तेंदुलकर ने उनके चहेते संगीतकार सचिन देव बर्मन के नाम पर रखा था. पर उन्हें क्या पता था कि उनका बेटा एक दिन महान संगीतकार सचिन देव बर्मन से भी ज्यादा प्रसिद्ध हो जाएगा. बड़े भाई अजीत तेंदुलकर ने क्रिकेट खेलने के लिए प्रोत्साहित किया तो स्कूल में भी शिक्षकों का पूरा सहयोग मिला.


सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने अपने स्कूल मुंबई के शारदाश्रम विद्यामंदिर (Sharadashram Vidyamandir) से ही अपने क्रिकेट कॅरियर की शुरुआत कर दी थी. रमाकांत आचेरकर की छत्रछाया में उन्होंने प्रारंभिक क्रिकेट सीखना शुरु किया. इसके बाद एमआरएफ फाउंडेशन (MRF Foundation) की तरफ से आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज डेनिस लिली ने सचिन को तेज गेंदबाजी करते देखा तो कहा कि गेंदबाजी से बेहतर है तुम बल्लेबाजी पर ध्यान दो. इस एक कथन ने क्रिकेट के भगवान की तकदीर बदल दी.


sachin02-258x300Sachin Tendulkar’s Career : क्रिकेट कॅरियर की शुरुआत


1988 में स्कूल के एक हॅरिस शील्ड मैच में विनोद कांबली के साथ खेलते हुए 664 रन की भागीदारी बनाकर स्कूल क्रिकेट में विश्व कीर्तिमान कर दिया था. सचिन ने इस मैच में 320 रन बनाए थे. सचिन ने 14 साल की उम्र से ही प्रथम श्रेणी क्रिकेट मैच खेलना शुरु कर दिया था. मुंबई की तरफ से खेलते हुए सचिन ने चयनकर्ताओं को आकर्षित किया और 16 साल की उम्र में ही सचिन को देश की तरफ से खेलने का पहला मौका मिला.


Read: भारत के सबसे धनी व्यक्ति


18 दिसम्बर, 1989 को गुजरांवाला, पाकिस्तान में सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने अपने एकदिवसीय कॅरियर की शुरुआत की. अपने प्रर्दापण मैच में सचिन ने अपने जुझारू होने का सबूत दे दिया जब उन्होंने वसीम अकरम, वकार यूनुस जैसे गेंदबाजों का डटकर सामना किया. साल 1989 में कॅरियर का पहला दौरा उनके लिए अच्छा नहीं रहा और तेज गेंदबाज वकार यूनुस की बाउंसर तेंदुलकर को लगी और उनकी नाक से खून बहने लगा था लेकिन तेंदुलकर इससे घबराए नहीं और उन्होंने अगले दो दशकों तक दुनियां में हर तरह के मैदानों पर दिग्गज गेंदबाजों को खूब सबक सिखाया.


sachin tendulkar : God of Cricket1989 से लेकर 1994 तक सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने क्रिकेट के मैदान पर अपनी शैली से अपनी अलग पहचान तो बनाई पर वह नाम कमाने में असफल ही रहे. इन पांच सालों में सचिन ने एक भी शतक नहीं लगाया था. लेकिन इसके बाद सचिन ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. आस्ट्रेलिया, सिडनी, शारजाह, कानपुर जहां भी मौका मिला, उन्होंने बल्ला उठाकर आसमान में भगवान को धन्यवाद दिया और अपने प्रशंसकों को शतक का तोहफा दिया. 1997 से लेकर 2003 तक तो सचिन लिटिल मास्टर से मास्टर ब्लास्टर बन चुके थे.


2003 में उनकी ही बदौलत टीम इंडिया फाइनल तक पहुंची तो 2011 में उन्होंने टीम को विश्व कप की ट्राफी उठाने में मदद की. सचिन ने उम्र के इस पड़ाव में भी वनडे में 200 रनों की मैराथन पारी खेल दिखा दिया है कि उनमें रनों की भूख अभी शांत नहीं हुई है.


सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने टेस्ट व एकदिवसीय क्रिकेट, दोनों में सर्वाधिक शतक अर्जित किए हैं. वे टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज़ हैं. इसके साथ टेस्ट क्रिकेट में 14000 से अधिक रन बनाने वाले वे विश्व के एकमात्र खिलाड़ी हैं. एकदिवसीय मैचों में भी उन्हें सर्वाधिक रन बनाने का कीर्तिमान प्राप्त है. अपनी बल्लेबाजी की शैली की वजह से उनकी तुलना महान क्रिकेटर सर डॉन ब्रेडमैन से की जाती है. खुद ब्रैडमैन ने कहा था कि वह सचिन में अपना अक्श देखते हैं.


Read: रामायण और गीता का युग फिर आने को है


Sachin TendulakarSachin Tendulkar’s Batting Style : सचिन की शैली


दायं हाथ के इस महान बल्लेबाज ने ना सिर्फ बल्लेबाजी बल्कि कई अहम मौकों पर अपनी कलाई का जादू दिखाकर मैच भी जिताया है. एक मैच विनर बल्लेबाज होने के साथ ही वह एक मैच विनर गेंदबाज भी हैं. हमेशा शांत रहने वाले सचिन को शायद ही आपने कभी कैमरे के सामने अधिक देखा हो. अपनी निजी जिंदगी को दूसरों से छुपाने वाले सचिन समाज सेवा का कोई मौका नहीं छोड़ते लेकिन जब वह चैरिटी करते हैं तो किसी को दिखाते नहीं है. सचिन अपने आलोचकों को कभी भी मुंह से जवाब नहीं देते. सचिन अपनी दोस्ती निभाने के लिए भी जाने जाते हैं.


Sachin Tendulkar’s Records : सचिन के रिकॉर्ड

  • 463 वनडे में 18,426 रन, 49 शतक और 96 अर्धशतक. वनडे में बल्लेबाजी औसत 44.83 सर्वाधिक 200 रन नाबाद.
  • 199 टेस्ट मैचों में 188,47 रन, 51 शतक और 71 अर्धशतक. टेस्ट में बल्लेबाजी औसत 53.71 सर्वाधिक 248रन नाबाद.
  • वनडे में 154 विकेट और टेस्ट में 46 विकेट.
  • सचिन राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित एकमात्र क्रिकेट खिलाड़ी हैं.
  • 2008 में पद्म विभूषण से सम्मानित.
  • देश से सबसे बड़े नागरिक पुरस्कार ‘भारत रत्न’ के प्रबल दावेदार.
  • टेस्ट और वनडे में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी
  • सबसे ज्यादा मैच ऑफ द मैच का खिताब जीतने वाले खिलाड़ी.
  • वनडे में सबसे ज्यादा मैन ऑफ द सीरिज जीतने वाले खिलाड़ी.
  • वनडे के एक मैच में 200 रन बनाने वाले पहले खिलाड़ी.
  • विश्व कप में सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी. विश्व कप में सबसे ज्यादा मैच खेलने वाला खिलाड़ी.
  • वनडे और टेस्ट में अन्य खिलाड़ियों के साथ मिलकर सर्वाधिक शतकीय भागीदारी बनाई है.
  • सचिन के रिकॉर्डों की संख्या तो इतनी है कि अगर आप उसे एक-एक करके लिखें तो एक किताब लिखी जा सकती है.


सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) भारतीय क्रिकेट के एक महान खिलाड़ी होने के साथ एक आदर्श शख्सियत भी हैं. सौरभ गांगुली, राहुल द्रविड़, अनिल कुंबले और लक्ष्मण सरीखे खिलाड़ियों के साथ खेलते हुए सचिन ने युवाओं को हमेशा आगे आने का मौका दिया है. युवराज सिंह, सुरेश रैना, सहवाग जैसे कई खिलाड़ी उन्हें अपना आदर्श मानते हैं. सचिन में क्रिकेट के प्रति दीवानगी को देखकर लोग उन्हें जिन्दगीभर क्रिकेट के समानांतर मानेंगे.


Read more:

सचिन के वे पांच अनमोल क्षण

क्रिकेटर से राज्यसभा सांसद

एक पुरुष खिलाड़ी के बराबर ताकत रखती हैं सेरेना

| NEXT



Tags:                                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (33 votes, average: 4.58 out of 5)
Loading ... Loading ...

17 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

RINKU CHOUDHARY के द्वारा
August 26, 2014

THE GOD OF CRICKET

RYTHWIK REDDY के द्वारा
August 6, 2014

NO SACHIN NO CRICKET PLZ…… PLZ …………………………………………………… COME BACK

samir ghadi के द्वारा
April 4, 2014

SACHINE SIR AP CRICKET KE GOD HO HAM SAB JANTE HE AP KE BINA MATCH DEKHNE ME BILKUL BHI MAJA NI AYGA ISLIYE AP KOPURE INDIA KI TARAF SE SALAAM I MISS U SIR

Affag के द्वारा
February 2, 2014

kla kla ki ki koooooo

Anuj Baghel के द्वारा
January 17, 2014

Sir you are really GOD of cricket

    Affag के द्वारा
    February 2, 2014

    जगललो ुद्ह

Rajat sharma के द्वारा
December 11, 2013

sachin sir ap cricket ke adarsh ke rup me jane jate he apke jane ke bad me gricket jagat adhura sa sabit ho rha he kya ab apka son arjun apki kami ko pura kar paega yahi aas bhartiy cricket premiyo ko cricket se jode hui he mujhe bhi us din ka intjar he jab arjun mumbai me apna pahla match khele Thank you cricket god

ali akram के द्वारा
December 9, 2013

वाह!वाह! क्या बात है कमल कर दिया सुपर्ब वूऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊ!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

ganesh mete के द्वारा
November 17, 2013

please update new, 200 test match and 15847 + 74 runs,

Abhishek Abhi Mishra के द्वारा
November 14, 2013

Hello sachin sir ji appko cricket se alag dhekhker cricket dhekna bekaar hai kyo ki app he indian cricket ki jaan the, app ne he india cricket ko yahaa tak pahuchha paya. I miss u ‘God of Cricket’ (Sachin Tendulker). I love cricket n love u cricket god.

Shakil Khan के द्वारा
November 14, 2013

Hi sir i am shakil khan from INDIA (Uttar Pradesh). From deep of my heart I want to ask with you Sir why are you going to take retairment. Thats not a good and gladful decision because you are the only a man from whom the cricket say’s that please come and watch me and the GOD of cricket. PLEASE SIR I am requesting you come back again in your spot because cricket is nothing without your batting and impossible records. SIR you have must be come in the cricket of world. Now I am in Gulf Doha Qatar. If I was in INDIA I will must come your house to request for coming back. Every people of world who love cricket they love you not by your records but also yourfaith and noble deeds. Agar mai aapke bare me likhta raha to kabhi khatam nahi hoga lekin agar AAP cricket khelna chhod diye to na jane kitne hindustaniyo ki jaan chali jayegi aur unme ek mai bhi rahunga. Ye carrier aapka hai aapko decide karna hai ki aap kya karenge lekin sabse pahle in hindustaniyo ke zindagi ke bare me jaroor sochiyega. Ye sochkar bada ajeb lagta hai ki na jane kitne log honge jo sirf aapki batting dekhkar aapse itna mohabbat karte hai magar aapse kabhi mil nahi sakte. Agar Khuda ne zinda rakha to ek din mai aapse jaroor milunga. Aapse phir se guzarish hai PLZ PLZ PLZ ……………… COME BACK IN THE WORLD OF CRICKET NO TENDULKAR SIR NO CRICKET ALL THE BEST SIR HUM TO SIRF AAPKE LIYE EK FAIN HAI LEKIN AAP HAMARE LIYE JAAN SE BHI BADHKAR HAIN OK BYE SIR

MOHIT YADAV के द्वारा
November 10, 2013

SACHINE SIR AP CRICKET KE GOD HO HAM SAB JANTE HE AP KE BINA MATCH DEKHNE ME BILKUL BHI MAJA NI AYGA ISLIYE AP KOPURE INDIA KI TARAF SE SALAAM I MISS U SIR

Amit Singh के द्वारा
December 24, 2012

hello Sir ji I m not Hppay with you bcos you suddenly announce for your Retirment . why Sir this is not good but I know you also not satisfied with you bcos this time you suffuring from Pressure . chill but you continiue with test match ……….. And I hope when you read this msg then you feel good ,,,,,,,,,, jyada english nahi aati warna mai bahut kuch Likhta your fan Amit

NEERAJ KUMAR के द्वारा
November 16, 2012

CAREER

gaurav के द्वारा
August 17, 2011

aapka ye kahna ki sachin ne yuvaaon ko aage aane ka mouka diya hai ye bilkul galat h aapne jin khiladiyon ke naam likhe hi ya jinlogo ki wazah se indian team itni strong hai 99% khiladi ko ganguly ne laya ye inki hi mahanta thi jiski wazah se aaj indian cricket ki bulandiyon pr h agar sachin dhoni dravid jaise selfish ganguly k pahle aate tb ye team hizdon ki team hi rh jaati sb sachin ko bhagban kahta hai pr ye kutta kabhi bhi team k liye nhi khelta hai bhonsdi wala apna record ke liye khelta hai agar ganguly bhi team k liye nhi sirf apne baare m sochte tb wo sachin se aage hi rahte har record m pr is indian cricket ko badlne k chakkr m khud barbad ho gya use hmlog ijjat bhi n de ske or ek hraami or selfish ko bhagbaan mante hain kya chutiya suppoerter hai sb

    pratap के द्वारा
    November 14, 2013

    Tere jisa chutiya nahi maine dekha………Sachin is best cricketer in the universe.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran